Missing Joyti : IAS बनने का सपना देखने वाली 9वीं की छात्रा लापता, अपहरण की आशंका

Help missing girl : Aligarh Report (up Police)

अलीगढ़ (Aligarh) के थाना क्वार्सी एरिया में रहने वाली 9वीं की छात्रा नव ज्योति उर्फ गुनगुन (Nav joyti @ Gungun) 9 अप्रैल की दोपहर से लापता है। ज्योति अलीगढ़ के नामी स्कूल सेंट फिडेलिस (St. Fidelis School) में पढ़ती है। वह 9 अप्रैल की दोपहर करीब 3:10 बजे कोचिंग के लिए साइकल से निकली थी। कोचिंग भी नहीं पहुंची और रास्ते में ही संदिग्ध हालात में लापता हो गई। छात्रा के पिता की 4 साल पहले ही मौत हो चुकी है। परिवार में अब सिर्फ अकेली मां ही उसकी तलाश में जुटी है। मां मीतू ने कहा कि अलीगढ़ पुलिस के साथ up police और Facebook व सोशल मीडिया की मदद से ही मेरी बेटी मिल सकती है।

छात्रा के परिवार में 17 साल का एक बड़ा भाई हैरी, 5 साल का छोटा भाई और मां मीतू ही है। इस परिवार ने रो-रोकर लोगों से ज्योति का पता लगाने में मदद मांगी है। आपको इस बच्ची के बारे में कुछ पता चले तो इस नंबर 07451036372 पर संपर्क कर सकते हैं।

पढ़ाई को लेकर काफी सीरियस थी, रोजाना 3 बजे जाती थी कोचिंग, शाम 7 बजे लौट आती थी, मां कर रही है इंतजार

संदिग्ध हालात में लापता हुई ज्योति 13 साल की है। मां मीतू बताती हैं कि वह पढ़ने में काफी होनहार है। अभी जब UPSC का रिजल्ट आया था तब भी वह कह रही थी कि मम्मी मुझे IAS बनना है। वह हमेशा से IAS बनने की बात कहकर पढ़ाई करती रहती रही है। पति की मौत के बाद से पूरे परिवार की नजर बेटी ज्योति पर ही टिकी है कि वह घर में नया उजाला लाएगी। मगर वही लापता हो गई। मां मीतू रोते हुए बताती हैं कि बेटी किसी भी तरह मेरे पास लौट आए। ज्योति रोजाना स्कूल से आने के बाद दोपहर 3 बजे कोचिंग चली जाती थी। वहां से शाम 7 बजे तक साइकल से ही घर लौट आती थी। मगर अभी तक नहीं लौटी है।

साइकल भी नहीं मिली, पुलिस का दावा- जांच शुरू

लापता छात्रा की मां ज्योति ने बताया कि शाम तक जब वह नहीं लौटी तभी क्वार्सी थाने में जाकर लिखित शिकायत दे दी थी। पुलिस के कहने पर उसकी फोटो व सभी डिटेल दी है। ज्योति के पास एक फोन भी था जिसका नंबर दे दिया है। हालांकि मामला crimehelpline.com के जरिए सामने आने पर पुलिस ने गंभीरता से जांच शुरू कर दी है। मां मीतू कहती हैं कि आखिर मेरी बेटी का क्या होगा। उसे किसने अपहरण कर लिया। मेरे परिवार में भी कोई बड़ा सदस्य नहीं है जो तुरंत कार्रवाई के लिए बड़े अधिकारियों तक पहुंचे। मेरी मदद की जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *