फिजियोथेरेपिस्ट प्रोफेसर वॉट्सएप पर लड़कियों को स्वीट हार्ट बेबी कहते थे, सोशल मीडिया पर ऐसे हुआ विरोध

Crime Helpline Desk
नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी (Noida International University) ने अपने फिजियोथेरेपी डिपार्टमेंट के हेड डॉ. सेंथिल पी कुमार (Dr. Senthil P Kumar) को लड़कियों को अपमानजनक मैसेज भेजने का दोषी मान लिया है। इसके बाद यूनिवर्सिटी ने डॉ. सेंथिल को सस्पेंड करने के साथ हमेशा के लिए सेवामुक्त कर दिया है। आरोप है कि ये प्रोफेसर डॉ. सेंथिल वर्कशॉप या सेमिनार में लड़कियों को बुलाने के लिए उनके वॉट्सएप (Whatsapp) या फेसबुक मैसेंजर पर स्वीट हार्ट (sweet Heart), स्वीटू या ब्यूटी बेब्स (Beauty baby) कहकर बुलाते थे। इस मामले को लेकर 100 से ज्यादा लड़कियों ने सोशल मीडिया पर मीटू के तहत उठाया था।

यूनिवर्सिटी में कमेटी ने मैसेज भेजने का पूछा तो ये कहा था डॉ. सेंथिल (Senthil) ने


नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी (‌NIU) की तरफ से बनाई गई कमेटी के सामने 8 मई को आरोपी डॉ. सेंथिल पेश हुए। उन्होंने अपना बचाव करते हुए कमेटी के सामने कहा कि लड़कियों से फ्रेंडली बात करने का उनका यह तरीका है। इसमें उन्होंने कभी भी किसी लड़की का उत्पीड़न या उसकी गरिमा को नुकसान पहुंचाने का प्रयास नहीं किया। इस पर नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव प्रो. जयानंद ने बताया कि लड़कियों को वॉट्सऐप पर अभद्र मैसेज भेजने की जानकारी मिलने के बाद एक जांच कमेटी बनाई गई थी।

 

Suspention letter

इस कमेटी के सामने बुधवार को डॉ. सेंथिल पी कुमार ने अपना पक्ष रखा। जिससे कमेटी के लोगों संतुष्ट नहीं हुए। जिसके बाद यूनिवर्सिटी से उन्हें सस्पेंड कर दिया गया और यह भी निर्देशित किया गया कि वह किसी भी वजह से यूनिवर्सिटी कैंपस में प्रवेश नहीं कर सकते हैं। इस दौरान यूनिवर्सिटी के कुलसचिव ने यह भी स्पष्ट किया कि इस मामले में आरोपी लगाने वाली सभी लड़कियां यूनिवर्सिटी से बाहर की हैं। हालांकि, जिस तरह से वॉट्सऐप मैसेज और ईमेल को कमेटी ने देखा उससे यह पाया गया कि डॉ. सेंथिल पी. कुमार ने महिला की गरिमा को नुकसान पहुंचाया है। इसे ध्यान में रखते हुए यह कार्रवाई की गई है।

IAP ने कई दिन पहले ही डॉ. सेंथिल को किया था सस्पेंड

डॉ. सेंथिल पर आरोप लगाने वाली ये लड़कियां नोएडा इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी की नहीं हैं। इसके बजाय ये पिछले काफी समय से फिजियोथेरेपी से जुड़ीं हैं और आरोपी डॉ. सेंथिल (Dr. Senthil P Kumar) के वर्कशॉप में हिस्सा लेने के लिए जाती रहीं हैं। इनमें कुछ लड़कियां ऐसी भी हैं जो डॉ. सेंथिल के पुराने कॉलेज में पढ़ चुकी हैं। इससे पहले, डॉ. सेंथिल को इंडियन फिजियोथेरेपिस्ट असोसिएशन (The Indian Association Physiotherapist) IAP के विमिन सेल को 14 लड़कियों ने लिखित में शिकायत दी थी। जिसके आधार पर IAPWC असोसिएशन से पहले ही सस्पेंड कर दिया गया था।

डॉ. सेंथिल ने कहा : हां मैने स्वीट हार्ट लिखा, लेकिन इसमें इरादा उत्पीड़न का नहीं, बल्कि फ्रेंडली होने का था

whatsapp chat screen shots of Senthil

आपको बता दें कि देश के कई शहरों की 100 से ज्यादा लड़कियों ने डॉ. सेंथिल पी. कुमार के खिलाफ सोशल मीडिया पर मीटू कैंपेन चलाया था। इन पर आरोप लगाया था कि फिजियोथेरपी के वर्कशॉप या सेमिनार में बुलाने के लिए वॉटसऐप पर चैट करते समय लड़कियों को स्वीट हार्ट या स्वीटू लिखते थे। इससे परेशान होकर 14 लड़कियों ने इंडियन असोसिएशन ऑफ फिजियोथेरेपिस्ट (IAP) के विमिन सेल में शिकायत भी कर दी थी। जिसके बाद असोसिएशन ने 6 मई को ही इन्हें सस्पेंड कर दिया था।

इस पर आरोपी डॉ़. सेंथिल पी. कुमार ने कहा कि फिजियोथेरेपी की वर्कशॉप और सेमिनार में छात्रों और अन्य को बुलाने के लिए वह पिछले काफी समय से वॉट्सऐप पर इसी तरह के मैसेज करते रहे हैं। आरोपी डॉ. सेंथिल ने स्वीकार किया कि उन्होंने लड़कियों को स्वीट हार्ट और स्वीटू लिखा है लेकिन इसका मकसद किसी तरह का हैरसमेंट करने का नहीं रहा है। इसके बजाय उन्हें खुश करके और ज्यादा से ज्यादा फ्रेंडली बनाना है जिससे वे सेमिनार या वर्कशॉप में आने के लिए प्रेरित हो सकें।

फेसबुक व यू-ट्यूब पर डॉ. सेंथिल के हजारों फॉलोअर्स हैं, सोशल मीडिया पर 2500 से ज्यादा लोग जता चुके विरोध

डॉ. सेंथिल पी. कुमार देश के जाने-माने फिजियोथेरेपिस्ट में से एक हैं। इनके फेसबुक और यू-ट्यूब पर भी काफी फॉलोअर हैं। इन पर आरोप है कि इनके सेमिनार या वर्कशॉप में आने वाली लड़कियों के मोबाइल नंबर लेकर उन्हें ये अक्सर वॉट्सऐप पर मैसेज भेजते थे। इस दौरान अगर कोई लड़की चैट करती है तो वह उसे लवली गर्ल (Lovely girl), स्वीट हार्ट (Sweet heart) या स्वीटू या फिर ब्यूटी बेबी कहकर बात करते थे। इसके अलावा भी कई लड़कियों ने कुछ साल पहले मैंगलुरु स्थित कॉलेज में पढ़ाने के दौरान भी इस तरह की हरकत करने का आरोप लगाया था। जिसके बाद से सोशल मीडिया पर डॉ. सेंथिल पी. कुमार के खिलाफ बड़ा अभियान चलाया जा रहा था। इनके खिलाफ आवाज उठाने के लिए 2500 लड़कियां एक पीटिशन भी साइन कर चुकी हैं।

अगर आपके साथ भी ऐसा कुछ हो रहा है तो उठाएं आवाज..
Email crimehelpline005@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *