Cyber Crime : महज 600 में डोमेन खरीदा, ईमेल का 1 अक्षर बदला, ठग लिए 41000 डॉलर, यकीन नहीं होगा

Cyber crime special : Noida (Delhi-NCR)

साइबर क्रिमिनल (cyber Criminal minds)  हमेशा 10 कदम आगे की सोचते हैं। यह सच है। जितना हम खुद को जागरूक करते हैं उससे कहीं ज्यादा शातिर तरीके से क्रिमिनल किसी घटना को अंजाम दे देते हैं। दिल्ली से सटे नोएडा शहर में चीन से महंगी सिलाई मशीनें मंगाने के लिए एक कंपनी के डायरेक्टर नवंबर 2018 से ईमेल के जरिए लगातार बात कर रहे थे। इस बीच, इनकी चीनी कंपनी से करीब 41 हजार अमेरिकी डॉलर में डील फाइनल हो गई। इसकी पेमेंट करने को लेकर बात हो रही थी।

मशीनों  की पहली खेप नोएडा पहुंच गई तो कंपनी डायरेक्टर के पास एक ईमेल आता है। उसमें लिखा होता है कि चीनी कंपनी ने सिक्योरिटी के लिहाज से अपना बैंक अकाउंट नंबर बदल लिया है। लिहाजा, फाइनल हुई डील की रकम को इस दिए गए अकाउंट में डाल दिया जाए। इसे देख कंपनी डायरेक्टर ने उस अकाउंट में करीब 41 हजार डॉलर (करीब 28 लाख रुपये) ट्रांसफर कर दिया। कुछ दिन बाद ही दिल्ली से चीनी कंपनी का एजेंट पैसे को लेकर नोएडा आता है तब पता चलता है कि साइबर फ्रॉड (cyber Fraud) हो चुका है।

दोनों कंपनियों के बीच कंपनी की ऑफिसियल ईमेल आईडी से हो रही थी बात, फिर भी हुई जालसाजी

नोएडा की कंपनी के डायरेक्टर नवीन जैन ने बताया कि उनकी बात कई देशों में काम करने वाली grouphca कंपनी से बात हो रही थी। इंडिया स्थित इसके सेल्स ऑफिस की enquiry@grouphca.com से पिछले साल नवंबर से ईमेल पर बात हो रही थी। इसी ईमेल में बात के दौरान चीन से सिलाई मशीनों को मंगाने को लेकर डील हो गई। 15 जनवरी को रकम ट्रांसफर करने पर बात हुई थी।

उसी दिन enquiry@gruophca.com नाम से ईमेल उसी रनिंग ईमेल में आई। उसमें लिखा था कि सिक्योरिटी के लिहाज से बैंक का अकाउंट नंबर चेंज हुआ है और उसी में पैसै डालने हैं। बैंक की डिटेल दी गई थी HSBC Bank PLC (Swift Code : HBUKGB4B & Account number..)। इसमें नवीन जैन ने 1 फरवरी को 40534.50 यूएस डॉलर ट्रांसफर करा दिए थे। इसके करीब 15 दिन बाद असली कंपनी का दिल्ली से एग्जिक्यूटिव इनके नोएडा ऑफिस में आकर पैसों को लेकर बात की तब जालसाजी का पता चला।

ऐसे की गई थी जालसाजी : एक अक्षर की हेराफेरी कर पहले डोमेन खरीदा और फिर उससे ईमेल आईडी बना किया फ्रॉड

जिस कंपनी से डायरेक्टर नवीन जैन की डील हुई थी उसका नाम है grouphca.com। साइबर क्रिमिलन (cyber criminal) ने इसी मिलते-जुलते नाम जिसमें ओ की जगह पहले यू कर लिया बाकी सभी वही शब्द रखें। यानी gruophca.com। इस तरह यह नाम Godaddy पर आसानी से एक साल के लिए महज 600 रुपये के आसपास में रजिस्टर्ड हो गया। इसी मिलते-जुलते नाम से आसानी से enquiry@gruophca.com ईमेल तैयार हो गई। इसके बाद इसी आईडी से ईमेल भेजकर फ्रॉड कर लिया गया।

15 जनवरी को सुबह Godaddy पर रजिस्टर्ड कराया, कुछ घंटे बाद ही ईमेल भेज किया फर्जीवाड़ा

जांच में पता चला है कि 15 जनवरी की सुबह करीब 9:30 बजे इस नाम को रजिस्टर्ड कराया गया था और तुरंत ईमेल आईडी जनरेट करके ईमेल भेज दिया गया। इस तरह यह अंदेशा है कि या तो नोएडा स्थित कंपनी या फिर मशीन भेजने वाली कंपनी के किसी शख्स की मिलीभगत से ये फर्जीवाड़ा किया गया है। जिस बैंक अकाउंट में अमेरिकी डॉलर मंगाए गए हैं वो UK का है। अब पुलिस उस अकाउंट की डिटेल खंगाल रही है। यह भी पता चला है कि इस फर्जी अकाउंट को मुंबई के कुछ नंबर से रजिस्टर्ड कराया गया है जिसकी जांच हो रही है।

Crime Helpline Tips : 

  • किसी भी कंपनी या वेबसाइट से मिलते-जुलते नाम को बनाना बेहद ही आसान है। सिर्फ अंग्रेजी के एक अक्षर को बदलकर सस्ते में इंटरनेट डोमन लिया जा सकता है।
  • इसी कंपनी का नाम grouphca है मगर साइबर क्रिमिनल ने gruophca यानी के बीच के एक अक्षर को बदल लिया। इस तरह देखने पर आसानी से कोई दोनों में अंतर नहीं समझ सकता।
  • इस प्रकार से किसी भी कंपनी की वेबसाइट या उससे आने वाले मैसेज जैसे Amazon के Amozan के नाम से मैसेज भेजकर जालसाज ठगी करते हैं।
  • ऐसे ठगों से बचने के लिए हमेशा भेजे गए ईमेल या मैसेज के नाम को इंटरनेट पर जाकर वेरिफाई जरूर करें।
  • अगर आपको किसी भी मामले में कितनी भी रकम देनी पड़े तो पैसे देने से पहले उसकी जांच कर लें कि वेबसाइट सही है या नहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *