ATM CLONING : नशे में होते ही पब-बार कर्मचारी ऐसे करते थे एटीएम क्लोनिंग

 

नोएडा के #Burger King रेस्टोरेंट के बाद अब #lOGIXMALL के #IMPERFECTO RUIN PUB में कार्ड क्लोनिंग (#CLONING) का सनसनीखेज मामला सामने आया

अगर आप भी वीकेंड में पब या बार में जाते हैं तो हो सकता है कि आपके एटीएम या क्रेडिट कार्ड की क्लोनिंग कर ली गई हो। दिल्ली एनसीआर समेत पूरे देश में कार्ड क्लोनिंग करने वाला नेटवर्क रेस्टोरेंट, होटल, गेस्ट हाउस के साथ पब व बार को भी खासतौर पर निशाना बना रहा है। नोएडा के जीआईपी मॉल के बर्गर किंग रेस्टोरेंट के बाद अब लॉजिक्स मॉल के इंपरफेक्टो (#IMPERFECTO) रूइन पब में एटीएम कार्ड की क्लोनिंग करने का मामला सामने आया है।

इस पब के बार टेंडर कर्मचारी ग्राहकों को शराब व खाने का सामान परोसने के बाद पेमेंट लेने के दौरान स्किमर डिवाइस पर एटीएम या क्रेडिट कार्ड को स्वाइप कर लेते थे। इसके बाद किसी न किसी बहाने या सीसीटीवी में देखकर पिन नंबर भी जान लेते थे। क्लोनिंग डिवाइस पर डिटेल चुराने के काम ये कर्मचारी वीकेंड यानी शुक्रवार, शनिवार व रविवार की रात में ही करते थे। इस मामले में कई लोगों से शिकायत मिलने के बाद पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

4 महीने में 1500 से ज्यादा कार्ड की कर चुके हैं क्लोनिंग 

ATM CLONING करने वाले PUB कर्मचारी

इस पब में काम करने वाले एक या दो नहीं बल्कि 5 कर्मचारी क्लोनिंग कर रहे थे। हर हफ्ते में इनके टारगेट पर 20 लोग होते थे। दरअसल, क्लोनिंग डिवाइस स्किमर में 20 कार्ड का डेटा ही सेव होता है। ऐसे में अगर हर हफ्ते में एक-एक कर्मचारी 20-20 कार्ड की डिटेल चुराता होगा तो 4 महीने में 1500 से ज्यादा कार्ड की डिटेल चुराकर बेच चुके हैं। ऐसे में इनसे लाखों या करोड़ों रुपए निकाले जाने की आशंका है। इसे देखते हुए पुलिस ने कहा है कि जिन लोगों ने 4 महीने के भीतर इंपरफेक्टो रूइन पब में कार्ड से पेमेंट की है वो अपने पिन नंबर को जरूर बदल लें।

ऐसे करते थे ATM CLONING : पब में लोग जब नशे में आ जाते थे तब आसानी से मदद के नाम पर कर लेते क्लोनिंग


पुलिस ने बताया कि LOGIX MALL  के #IMPERFECTO RUIN PUB में छापेमारी करके वेटर व बॉर टेंडर का काम करने वाले शुभम राव, कौशल गुप्ता और सुमित सिंह बिष्ट को गिरफ्तार किया गया। इनके साथी दीपक और समीर भी कार्ड क्लोनिंग में शामिल हैं। इनकी तलाश की जा रही है। शुभम के पास से कार्ड क्लोनिंग डिवाइस स्किमर भी बरामद हुई है। गिरफ्तार आरोपियों से जब पूछताछ की गई तब बताया कि ये पब में आए लोगों को खाना या शराब देने के बाद उनके हाथ में ही बिल दे देते थे। वीकेंड पर भीड़ वाले दिन ज्यादातर लोग अपना कार्ड खुद ही पेमेंट के लिए निकालकर दे देते थे। ऐसे में वेटर मौका मिलते ही अपने क्लोनिंग डिवाइस स्किमर पर ग्राहकों के कार्ड को स्वाइप कर लेता था। इस दौरान ग्राहक जब पिन नंबर डालता था तो उसे देखकर कागज पर नोट कर लेते थे। इसके अलावा वहां लगे सीसीटीवी से ही पिन नंबर डालते हुए की डिटेल लेकर अपने पास रख लेते थे और बाद में बेच देते थे।

इसे भी पढ़ें – एटीएम क्लोनिंग का पहली बार लाइव खुलासा 

महज 3 हजार रुपये के लिए 20 लोगों के कार्ड की डिटेल बेच देते थे

यह चौंकाने वाली बात है कि आपकी मेहनत की कमाई को सेकंड में गायब करा देने वाले ये शख्स महज 3 हजार रुपये में 20 लोगों की कार्ड की डिटेल बेच देते थे। इन आरोपियों ने पुलिस को बताया कि उन्हें लालच देकर कार्ड क्लोनिंग करने वाले गैंग के मेंबर ने संपर्क किया था। गैंग मेंबर हर हफ्ते नई डिवाइस लाकर देता था और पुरानी डिवाइस अपने पास रख लेता था। हर डिवाइस में 20 कार्ड का डेटा सेव होता था और इन कर्मचारियों से पिन नंबर भी ले लेता था। इसके एवज में गैंग मेंबर उन्हें प्रति कार्ड के 3-3 हजार रुपए दे देता था। इसके बाद इन्हीं डिटेल से ये गैंग क्लोनिंग कार्ड बनाकर लाखों रुपये का ट्रॉन्जेक्शन कर लेते थे।

रखें ध्यान : पिन नंबर डालते समय शॉप में लगे सीसीटीवी को जरूर देखें

  • पब या बार में जाएं तो पेमेंट करते समय सावधानी बरतें और कार्ड किसी वेटर को देने के बजाय खुद स्वाइप करें
  • किसी भी जगह आप अपने एटीएम या क्रेडिट कार्ड का पिन नंबर डालते हैं तो जरूर देखें कि वहां कोई सीसीटीवी तो नहीं लगा है।
  • इसके साथ ही आप हमेशा हाथ से छुपाकर पिन नंबर डालें। कोशिश करें कि एक अंगुली के बजाय दो या तीन अंगुली का प्रयोग करके पिन नंबर डालें।

One thought on “ATM CLONING : नशे में होते ही पब-बार कर्मचारी ऐसे करते थे एटीएम क्लोनिंग

  • March 5, 2019 at 1:48 pm
    Permalink

    Aise logo par bada action hona chahiye

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *